धर्मांतरण के मुद्दे पर कांग्रेस सरकार की अनदेखी के विरोध में भाजपा का पैदल मार्च ..राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

रायपुर ! भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने धर्मांतरण के मुद्दे पर कांग्रेस सरकार की अनदेखी के विरोध में आजाद चौक गांधी प्रतिमा से राजभवन तक मार्च निकालकर राज्यपाल अनुसुइया उइके को ज्ञापन सौंपा। आजाद चौक में महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करके भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रमन सिंह ,नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, पूर्व मंत्री व विधायक बृजमोहन अग्रवाल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ के सभी वर्तमान व पूर्व सांसद ,वर्तमान व पूर्व विधायक, कोर कमेटी के सदस्य, व भाजपा प्रदेश, जिला पदाधिकारी जय स्तंभ चौक नगर घड़ी होते हुए मुख्य मार्गों से राजभवन पहुंचे। राज्यपाल को ज्ञापन सौपते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा यह सरकार आदिवासियों की संस्कृति दूषित करना चाह रही है। भोले-भाले आदिवासियों को प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन करने वाले लोग के खिलाफ शिकायत करने पर भी कोई कार्यवाही नहीं कर रही है। इससे आदिवासियों एवं परिवर्तित आदिवासी में संघर्ष की स्थिति बन रही है। जो भविष्य में कभी भी विकराल रूप ले सकती है। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा बस्तर से सरगुजा तक षडयंत्र पूर्वक सरकार के संरक्षण में बलपूर्वक ईसाई मिशनरी धर्म परिवर्तन कर रहे हैं। इसकी पराकाष्ठा दिखी जब थाने के अंदर मिशनरी कहते हैं कि धर्म परिवर्तन हम कर रहे हैं और करेंगे जिस में हिम्मत हो रोक ले। मिशनरी संविधान का सम्मान न कर उसे जलाने की बात कह रहे हैं। यह साफ इंगित करता है कि उनके पीछे देश को अस्थिर करने वाली ताकतें काम कर रही है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा धर्मांतरण के मुद्दे पर इस सरकार से पहले भी कोई उम्मीद नहीं थी। जिस सरकार का मुखिया अपने परिजनों को एक जाति विशेष व भगवान के नाम पर अनर्गल व्यक्तव्य देने से नहीं रोक पा रहा है । वह सरकार बहुसंख्यक वर्ग के हितों की रक्षा नहीं कर सकती। उन्होंने राज्यपाल महोदया से अनुरोध किया कि आप राज्य की संवैधानिक प्रमुख है आप हमारे आवेदन पर धर्मांतरण करने वालो के खिलाफ कार्यवाही करें। राज्यपाल महोदय से अनुरोध करते हुए बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि इस मामले में उच्च स्तरीय दखलंदाजी से इनकार नहीं किया जा सकता। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है कि पुलिस अधीक्षक का तत्काल तबादला हो जाता है । पुलिस द्वारा शिकायत कर्ताओं के खिलाफ अपराधिक मामले दर्ज किए जाते हैं व 1 दिन बाद उसमें गैरजमानती धाराएं जोड़ी जाती है। सुकमा के एसपी द्वारा धर्मांतरण को लेकर अपने मातहतों को पत्र लिखे जाने के बाद, छत्तीसगढ़ में तेजी से हो रहे धर्मांतरण के विषय में कोई संदेह नहीं है परंतु इस सरकार के मुखिया आज भी सबूत न होने का बहाना कर रहे है। राज्यसभा सांसद सरोज पांडे ने कहा कि छत्तीसगढ़ के विभिन्न थानों में भय व प्रलोभन से धर्मांतरण के अनेक मामले के आवदेन हैं ऐसे तमाम लोगों के खिलाफ कार्यवाही की जाए व शासन को स्पष्ट निर्देश कर धर्मांतरण पर अंकुश लगाया जाए। राज्यपाल को ज्ञापन देने रामविचार नेताम , सुनील सोनी , विजय बघेल,अरुण साव, गोमती साय, विक्रम उसेंडी, राम प्रताप सिंह ,गौरीशंकर अग्रवाल, अजय चंद्राकर ,शिवरतन शर्मा, नारायण चंदेल, रजनीश सिंह, पुन्नूलाल मोहिले, राजेश मूणत ,केदार कश्यप रायपुर जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी समेत सैकड़ो की संख्या में नेतागण उपस्थित थे।

Tags

cg news smartthink.in

Related Articles

36999.jpg

More News